जैनदर्शनसूक्तयः (निर्दयी)

विकिसूक्तिः तः
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

१. निर्दयानां हि का त्रपा ? - पांडवपुराणम् १२.२०१