यथा मदोन्तत्तजनप्रलाप:...

विकिसूक्तिः तः
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

यथा मदोन्मत्तजनप्रलापस्तथा तवैतानि वचांसि कर्ण।न गर्जनापूर्णघनात्कदापि जलाभिवृष्टिर्भवतीति संस्मर॥