यदि वा जनकात्मजा न लब्धा...

विकिसूक्तिः तः
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

यदि वा जनकात्मजा न लब्धा प्रभुरामाय निवेदयामि किं वा। विफलं मम लङ्घनं समुद्रे विफलं जन्म वृथा वृथा बलं मे॥